आकास की वार्षिकी के माध्यम से विचारों का लिखित स्वरूप

!! आकास की वार्षिकी के माध्यम से विचारों का लिखित स्वरूप !!

आपकी जय !
⏩ आदिवासी कर्मचारी अधिकारी संगठन (आकास) समाज में रचनात्मक एवं सकारात्मक पहल करते हुए साल भर हुए अपने कार्यों को लिखित स्वरूप देने हेतु अपनी वार्षिकी “एक कदम गांव की ओर” निकालने जा रहा है ।
⏩यह कार्य करीब-करीब फाइनल स्टेज पर कार्य पहुंच चुका है ।
⏩दिनांक 15 अप्रैल 2018 को आकास के प्रांतीय सचिव महोदय के माध्यम से साथियों के विचारों को आमंत्रित किया गया था। काफी साथियों के सकारात्मक विचार व लेख प्राप्त हुए हैं ।
⏩ किंतु अभी भी कई सारे साथी ऐसे हैं जो बहुत अच्छा विचार रखते है एवं लिखते भी हैं ,वह साथी आज दिनांक 17 अप्रैल 2018 शाम 5:00 बजे तक अपने विचारों को लिखित स्वरूप देते हुए वर्ल्ड फाइल में टाइप करवा कर सॉफ्ट कॉपी आकाश कार्यालय के मेल ID [email protected] पर भेजने का कृपया कष्ट करें ।
⏩ आदिवासी समाज की सबसे बड़ी कमजोरी रही है कि हम अपनी परंपरा, इतिहास, संस्कृति कला, ज्ञान आदि को लिखित स्वरूप नहीं दे पाए और जो हमारी अमूल्य विरासत थी । वह अन्य लोगों के द्वारा चुराई जा रही है या उसे तोड़-मरोड़ कर प्रस्तुत किया जा रहा है । इसलिए समाज के पढ़े-लिखे व बौद्धिक वर्गों को इस दिशा में काम करने की नितांत आवश्यकता है ।
⏩अंत में एक बार पुनः सभी कार्यकर्ताओं से हाथ जोड़कर विनती है कि आप अपना सारगर्भित लेख “एक कदम गांव की ओर” आकास की वार्षिकी के लिए आज शाम 5:00 बजे तक अनिवार्य रुप से भेजने का कृपया कष्ट करें ।

WhatsApp us for Help